क्रिकेटस्पोर्ट्स

धोनी : करोड़ों भारतीयों के लिए एक पुस्तक

कितना..कहें, क्या…कहें, कितना…लिखे, क्या…लिखें. किबोर्ड के ये 104 बटन इस बन्दे की तारीफ के मोहताज नहीं हैं. जी हाँ हम बात करें हैं एक ऐसे शख्स की जिसने अपने देश को नाम दिया, तिरंगे को शान दिया और दुनिया में हमें एक पहचान दिया.

 

इतना ही नही अपनी कामयाबी और शोहरत को देश के उपर न्योछावर कर दिया ये इंसान आज अपनी वतन की रक्षा के लिए सरहद पर भी जा पहुंचा है. अब तक के क्रिकेट इतिहास में बहुतों ने सन्यास के कगार पर पहुंचा होगा. पर कभी न थकने वाले 38 के इस कूल मैन के अन्दर बसे देशप्रेम के ज्जबे ने हम करोड़ों भारतियों का दिल ही नही जीते बल्कि प्रेरणा के एक मिशाल भी बने हैं.

अगर हम इस तरह के तामम हस्तियों को इनकी नेकी के तुले पर रखें तो क्या कुछ सामने नहीं आता है. हमें इनसे सीख लेने की आवश्यकता है. हम भारतियों को गर्व करना चाहिए कि खुदा ने इस बंदें को हमारे मुल्क में भेजा है.

Show More

Related Articles

Close