News4Bharatक्राइमराजनीति

लोकसभा से पास ऐंटी टेरर बिल, अमित शाह बोले- देश की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं

बुधवार को गैरकानूनी गतिविधियां संशोधन विधेयक 2019 को विरोध के बीच लोकसभा ने पारित कर दिया। इस विषय पर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों के बीच जोरदार बहस हुई। वहीं बहस के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि आतंकवाद पर करारा प्रहार करने के लिए शख्त कानून की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस कानून में संशोधन का विरोध कर रही है जबकि 1967 में इंदिरा गांधी की सरकार ही यह कानून को लेकर आई थी। शाह ने अर्बन नक्सलिजम पर वार करते हुए कहा कि जो इसे बढ़ावा दे रहे हैं, उन पर कठोर कार्रवाई की जाएंगी । साथ हीं कहा की सरकार की उनके प्रति बिल्कुल भी सहानुभूति नहीं है।कानून के दुरुपयोग के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा कि इस बिल में प्रावधान हैं कि किसी व्यक्ति को कब आतंकी घोषित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आतंकवाद बंदूक से नहीं बल्कि प्रचार और सनक से पैदा होता है। ऐसा करने वालों को आतंकी घोषित करने में किसी को आपत्ति क्यों हो रही है।

अमित शाह बोले कि विपक्ष कह रहा है कि सरकार इसके जरिए किसी भी कंप्यूटर में घुस जाएगी, अगर आतंकवाद से जुड़ा काम करोगे तो पुलिस आपके कंप्यूटर में जरूर घुसेगी।गृह मंत्री ने कहा कि हालांकि इस बिल में भी हमने अपील के लिए विकल्प खुले रखे और जो लोग UPA सरकार के दौरान हमारे खिलाफ जांच करा रहे थे वही आज NIA में कार्यरत हैं, तब उनपर भरोसा था तो आज क्यों नहीं है।अमित शाह ने कहा कि अगर व्यक्ति के मन में आतंकवाद है तो संगठन को बैन करने से कुछ नहीं होगा, तब वह नया संगठन बना लेगा, इस वजह से व्यक्ति को भी आतंकी घोषित करने का प्रावधान लाना जरूरी है। उन्होंने इस दौरान अमेरिका, UN, चीन, इजरायल और पाकिस्तान जैसे देशों का भी उदाहरण दिया।

 

Show More

Related Articles

Close