News4Bharatउत्तर प्रदेशधर्मनेशनलराजनीतिराज्य

मध्यस्थता नहीं, खुली अदालत में होगी अयोध्या विवाद की सुनवाई

अयोध्या विवाद  मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा है  कि 6 अगस्त से खुली अदालत में सुनवाई होगी. कोर्ट ने यह भी कहा कि मध्यस्थता कमेटी विवाद को सुलझाने में  कामयाब नहीं हो पाई है. मंदिर विवाद पर हिंदू और मुस्लिम पक्षों के बीच आम सहमति बनाने के लिए अयोध्या मध्यस्थता पैनल को 31 जुलाई तक का समय दिया गया था.

इस मामले की सुनवाई कर रहे संवैधानिक पीठ से वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने कहा कि इस मामले से संबंधित हस्तक्षेप और रिट पिटीशन के मामले लंबित हैं.

वहीँ इस मामले की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि वे इस मामले के विभिन्न पहलुओं पर गौर करेंगे. मामले की सुनवाई के वक़्त भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी भी मौजूद रहे.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सभी वकील अपने-अपने मामलों से संबंधित दस्तावेज तैयार कर लें जिनका आधार बनाकर वे बहस करेंगे. जिससे इस मामले से संबंधित दस्तावेजों की रजिस्ट्री पूरी कराई जा सके.

मामले की सुनवाई कर रहे एक अन्य वकील विष्णु ने कहा कि मध्यस्थता पैनल किसी एक मुद्दे पर बातचीत करने में असफल रहा. इस मामले पर हिंदू पक्ष अपने बहस की तैयारी करने में 40 दिन का समय लेगा.

 

Show More

Related Articles

Close